IAF Air Strike के बाद जब सुषमा स्‍वराज पहुंचीं चीन, नजर आई दोस्‍ती की नई मिसाल, देखें Pic, Video

100

पाकिस्‍तान के बालाकोट में जैश-ए-मोहम्‍मद के ठिकानों पर वायुसेना की एयर स्‍ट्राइक के बाद जब विदेश मंत्री सुषमा स्‍वराज चीन पहुंचीं तो वहां उनका जोरदार स्‍वागत हुआ। सुषमा यहां रूस, भारत, चीन (RIC) के विदेश मंत्रियों की 16वीं बैठक के सिलसिले में पहुंची हैं, जहां उनकी चीन के समकक्ष वांग यी के साथ द्विपक्षीय बैठक भी हुई। इस दौरान उन्‍होंने पुलवामा हमले का मुद्दा भी उठाया और दुनिया को यह बताया कि भारत ने आखिर पाकिस्‍तान के बालाकोट में आतंकी कैंपों पर एयर स्‍ट्राइक क्यों की?

सुषमा बुधवार को जब चीन पहुंचीं तो नई दिल्‍ली और बीजिंग के बीच यहां दोस्‍ती की एक नई मिसाल देखने को मिली। RIC बैठक से इतर सुषमा और वांग की द्विपक्षीय मुलाकात भी हुई। इस दौरान जब दोनों मीडिया के सामने आए तो दोनों देशों के विदेश मंत्रियों के बीच अच्‍छा तालमेल देखने को मिला। इस दौरान चीनी विदेश मंत्री सुषमा का हाथ पकड़कर मीडिया के सामने आते दिखे।

बाद में RIC मीटिंग के दौरान भी तीनों विदेश मंत्रियों के बीच बेहतर तालमेल दिखा, जिसे विदेश मंत्रालय के प्रवक्‍ता रवीश कुमार ने ट्व‍िटर पर शेयर किया।

वहीं, वांग यी से मुलाकात के दौरान सुषमा ने कहा, ‘मैं ऐसे वक्त में चीन आई हूं, जब भारत में शोक और गुस्से का माहौल है।’ उन्‍होंने जम्मू एवं कश्मीर के पुलवामा में सीआरपीएफ जवानों पर हुए आतंकी हमले का जिक्र करते हुए इसे भारतीय सुरक्षा बलों के खिलाफ ‘सबसे भीषण हमला’ करार दिया, जिसकी जिम्‍मेदारी पाकिस्तान स्थित आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने ली है।

सुषमा ने वांग से यह भी कहा कि यह आतंकवादी हमला पाकिस्तान की ओर से जैश-ए-मोहम्मद और उसके आतंक‍ियों को मिलने वाले समर्थन का नतीजा था। उन्‍होंने यह भी कहा कि चीन के विदेश मंत्री ने भरोसा दिलाया है कि आतंकवाद को जड़ से खत्‍म करने के लिए ‘हम सभी साथ मिलकर काम करेंगे।’ विदेश मंत्री ने यह भी कहा कि आतंकवाद पूरी मानवता के लिए खतरा है और इसके लिए केवल तीन देशों (रूस, भारत, चीन) की रणनीति ही काफी नहीं है।