‘सुपरमॉम कॉलरवाली’ बाघिन ने 8वीं बार दिया गुड न्यूज, 30 शावकों को जन्म देकर बनाया ये वर्ल्ड रिकॉर्ड

52

मध्य प्रदेश के टाइगर रिजर्व से बाघों को लेकर एक अच्छी खबर सामने आ रही है। सुपरमॉम कॉलरवाली नाम से फेमस बाघिन ने हाल ही में चार नए शावकों को जन्म दिया है। इसके साथ ही उसने अब तक 30 शावकों को जन्म देने का वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाया है जो अपने आप में एक बड़ी खबर है। यह बाघिन मध्य प्रदेश के पेंच टाइगर रिजर्व की है। बता दें कि इस बाघिन का नाम यहां आने वाले पर्यटकों ने ही रखा है।

यह खबर इसलिए भी महत्वपूर्ण है कि जहां पिछले कुछ महीनों में राज्य में 28 बाघों की मौत हुई है ऐसे में नए शावकों का जन्म इस प्राजित के लिए एक सुखद खबर लेकर आया है। बाघों के अस्तित्व पर मंडरा रहे खतरे के बीच ये खबर सुकून देने वाली है। बताया जाता है कि इन शावकों को हाल ही में कुछ पर्यटकों के द्वारा स्पॉट किया गया था। ये सभी आकार में बहुत छोटे थे और काफी स्वस्थ नजर आ रहे थे।

फॉरेस्ट ऑफिसर ने बताया कि यह कॉलरवाली ने आठवीं बार इन शावकों को जन्म दिया है। क्वीन ऑफ पेंच और पेंच प्रिंसेस के नाम से फेमस कॉलरवाली प्रसिद्ध बरीमाडा बाघिन के चार बच्चों में से एक है। गौरतलब है कि कॉलरवाली इतनी फेमस है कि कुछ समय पहले ही इसे एक डॉक्यूमेंट्री ‘स्पाय इन द जंगल’ का हिस्सा बनाया गया था।

सबसे पहले बाघिन कॉलरवाली ने मई 2008 में तीन शावकों को जन्म दिया था, लेकिन वह उन्हें कुदरत के कहर और मानव क्रूरता से बचा नहीं पाई। 24 दिनों के भीतर उन तीनों की मौत हो गई।

उसी साल अक्टूबर में उसने दूसरे शावकों को जन्म दिया इनमें तीन पुरुष शावक थे। इस बार सभी जीवित बच गए। विशेषज्ञों का मानना है कि बाघिन ने तीन बार शावकों को जन्म दिया है और तीनों बार उसने किसी गुफा में जाकर बच्चों को जन्म दिया।
2008 से लेकर 2013 के बीच कोल्लारवाली ने 18 शावकों को जन्म दिए जिसमें 14 शावक जीवित बच गए। 2015 में बाघिन ने छठवीं बार चार अन्य शावकों को जन्म दिया।

पेंच में वर्तमान में 60 एडल्ट बाघ हैं। हालांकि यहां से कई बाघों को पन्ना टाइगर रिजर्व में स्थानांतरित किया गया है क्योंकि पन्ना बाघों के लिए बेहद सुरक्षित रिजर्व माना जाता है। इस बार ये आठवीं बार है कॉलरवाली बाघिन ने शावकों को जन्म दिया है। गौरतलब है कि कॉलरवाली का जन्म 2004-05 में हुआ था।