आजादी के 70 सालों तक भी नहीं पहुंचा हैंडपंप, पहली बार बोरिंग मशीन देखकर खिले लोगों के चेहरे

2396

झारखंड के लातेहार जिले में आजादी के 70 सालों के बाद भी अब तक पीने के स्वच्छ पानी के लिए हैंडपंप की कोई सुविधा नहीं थी। लेकिन इतने सालों पर अब यहां के पंचायत प्रमुख ने इसे संभव कर दिखाया है। लातेहार के नक्सल प्रभावित जागीर गांव में पहली बार कोई हैंडपंप बोरिंग की मशीन पहुंची है। इस बात की खुशी यहां के ग्रामीणों के चेहरे पर साफ झलक रही थी।

यहां इन मशीनों की मदद से तीन हैंडपंप लगवाए गए। ग्रामीणों का कहना है कि इसके पहले तक खराब सड़क व्यवस्था के चलते गांव के अंदर तक इस तरह की बड़ी गाड़ियां नहीं पहुंच पाती थी। लेकिन पंचायत प्रमुख ने इसे संभव कर दिखाया है।

वहीं जागीर के पंचायत ब्लॉक प्रमुख मंगलदेव उरांव ने कहा कि ग्रामीणों को अब तक पीने के स्वच्छ पानी की सुविधा प्राप्त नहीं थी। इस बार हमने ये करके दिखाने का फैसला किया। हमने जेसीबी मशीन की मदद से बोरिंग मशीन को गांव के अंदर तक लेकर आए।

यहां की सड़कें बेहद खराब है क्योंकि इसे जंगल विभाग के द्वारा पहाड़ों को काट कर बनाया गया है। इसलिए यहां इस गाड़ी को अंदर तक लाना आसान नहीं था यही कारण है कि हमें जेसीबी मशीनों की मदद लेनी पड़ी।